Poetry

कौनसी नई बात हैं।

इस शाम में थकान हैं,
ये तो कोई नई बात नहीं।

गुज़रते हैं काँटों से रास्ते,
खरोंचने को यादेँ क्या खास हैं।

भीड़ में अकेले हैं,
जैसे सितारोँ में एक चाँद हैं।

तुम कहती हो तुम्हें पता हैं,
पर ये भी तो आम बात हैं।

दिल उदास हैं,
ये कौनसी नई बात हैं।

Advertisements
Standard
Poetry

इश्क़ की इबादत

इसे रहने दो वैसा ही,
जैसा सहर की पहली छाओं,
जैसे चाँद की जलती लौ।

इश्तेहार में चुटकी लेती
नए शहर की बेबसी,
कुचों में इमारतों से झाँकती
बादलों की महकती तस्वीरें।
इसे रहने दो ऐसा ही।

इश्क़ को ऐसा इबादत ही रहने दो,
मज़हब हुआ तो बिक जाएगा।

Standard
Poetry

ग़लतफ़हमी

तुम्हें किसने बताया,
अब गुल्फ़ाम ज़िंदा नहीं हैं?

सिने में दर्द हैं,
टूटे दिल को तुमने मौत समझ लिया।

शायर ही बना हूँ,
और मेहख़ाने में अक्सर मिलता हूँ।

Standard
Poetry

एकतरफ़ा

इस नींद से
नफरत भी हैं,
उतना ही
इश्क भी|

जो जगा
तो ख्यालों में तुम,
जो सोया
तो ख्वाबों में तुम|

ये एकतरफ़ा
ज़िन्दगी भी हैं,
और एक
कतल सा भी हैं|

तुम हो बस
मेरे ख्यालों के हो,
तुम न हो तो
किसी के भी नहीं|

Standard
Poetry

Always

How drunk this night could be?
Counting stars and I
Always end up counting You.

How old these trees could be?
Shedding leaves and I
Always end up holding You.

How broke this road could be?
Walking straight and I
Always end up hugging You.

Is it too early to start fresh?
Because in dark I
Always end up Loving You.

Standard