Life, Poetry

एक रात का मीट

फिर इस रात हफ़्तों बाद मीट बना हैं,
अदरक प्याज़ का बेहतरीन तड़के से।

पर नहीं, मुझे नहीं खानी ये बोटी,
ऐसा नहीं के मुझे पसंद नहीं,
लेकिन प्लेट में जब माँ परोसती हैं,
लंबी अटकी परेशानियाँ याद आ जाती हैं।

बैग की टूटी हुई स्ट्रैप हैं,
बाज़ार में भीड़ भी बहुत हैं,
चार किलोमीटर के चार रुपए बचाये हैं,
और दफ़्तर का काम अलग हैं।

झुर्रियों में फैली ज़िन्दगी हैं,
फिक्र मंद हैं उनकी तबियत,
लेकिन आज फिर माँ ने मीट बनाया हैं,
नहीं, ये परेशानी के मसाले में बना
एक दिन का मीट मुझे पसंद नहीं।

Advertisements
Standard
Poetry

सुनने वाला कौन हैं यहाँ

कभी लगता हैं
तुम्हें अभी बहुत कुछ कहना हैं,
लेकिन वो सुनने वाला अब यहाँ हैं नहीं।

और अजीब हैं ये,
बातें भी उसके इर्द-गिर्द की हैं,पर
वो सुनने वाला अब यहाँ हैं नहीं।

हाँ, मैं तुम्हारे जाने के बाद,
हर्फ़-दर-हर्फ़ जज़्बात का मोहताज़ हो गया हूँ,
लेकिन तुम सुनने वाली यहाँ हो नहीं।

Standard
Poetry

कौनसी नई बात हैं।

इस शाम में थकान हैं,
ये तो कोई नई बात नहीं।

गुज़रते हैं काँटों से रास्ते,
खरोंचने को यादेँ क्या खास हैं।

भीड़ में अकेले हैं,
जैसे सितारोँ में एक चाँद हैं।

तुम कहती हो तुम्हें पता हैं,
पर ये भी तो आम बात हैं।

दिल उदास हैं,
ये कौनसी नई बात हैं।

Standard
Poetry

याद तो होगा नहीं तुम्हें।

एक बात तो बताना भूल गया शायद,
अभी वक़्त नहीं हुआ तुम्हारे जाने का।

अरे, तुमने तो सामान भी बाँध लिया,
उस शाम हमने बात ख़त्म तो नहीं की थी।

वादा याद हैं ना तुम्हें या फिर दोहराऊं,
एक तस्वीर साथ की,
एक तोहफ़ा 5 जनवरी का,
एक डायरी मेरे तुम्हारें ज़िक्र मुलाकात की।

हाँ, तुम्हें तो याद ही नहीं होगा कुछ,
आए बड़े, सब याद रखने वाले।

तुम तो कहती थी तुम न जाओगे ऐसे,
उस रात फिर क्या हुआ?
जाओ मैं नहीं करता बात अब तुमसे।
अब जाओ भी, और सुनों
ये यादें तो ले जाओ अपने साथ।

बात तो बताना भूल गया, शीतल,
आदतें नहीं भूल सकता तुम्हारे जाने के बाद।

Standard
Poetry

इश्क़ की इबादत

इसे रहने दो वैसा ही,
जैसा सहर की पहली छाओं,
जैसे चाँद की जलती लौ।

इश्तेहार में चुटकी लेती
नए शहर की बेबसी,
कुचों में इमारतों से झाँकती
बादलों की महकती तस्वीरें।
इसे रहने दो ऐसा ही।

इश्क़ को ऐसा इबादत ही रहने दो,
मज़हब हुआ तो बिक जाएगा।

Standard
Poetry

उज़्र-ए-बारिश

वो जो बर्फ के ग्लेशियर होते हैं,
जो एक थपके में टूट गिरते हैं,

वैसा ही कुछ सिने में टूटा हैं,
कोई आग से नहीं पिघला कुछ।

चंद बची घड़ियों में वो गर्म- ठंडी आँहे हैं,
जैसे पिछले सब वहीं ठहरा हुआ हैं।

कोई छू कर भी देख ले असीर-ए-जिस्म,
दरून-ए-जिस्म मैं कांपता मिलता हूँ।

तुम्हें पता कैसे होगा इस सीली हवायों का,
सुना हैं,
अज़ीज़-ए-गुल्फ़ाम में उज़्र-ए-बारिश नहीं होती।

Standard
Poetry

बिग बैंग

कभी यूँ हुआ हो,
कागज़ों पर छाप देते देते
तुम्हें ख़्याल आये
ये सब मिट जाएगा।

सहर होते ही
ये अँधेरा बिखर जाएगा,
और दूर तारों से
एक बिंदु में सब मिल जाएगा।

वहाँ एक नया दौर हैं,
ज़िन्दगी अलग हैं
ख़्वाब अलग हैं,
इस जहां से अलग जहां और भी हैं।

ख़्याल से लड़ते लड़ते,
ये ज़िन्दगी भी ख़त्म होगी,
लेकिन तुम ये नहीं सोचोंगे,
क्योंकि देखा नहीं ये “बिग बैंग”।

Standard