Poetry

मोड़

वो मोड़ याद होगा तुम्हें,
वही जहाँ रात भर
नींद यूँही बैठी रहती थी
और तुम और मैं
बस अर्सा बाते
करते रहते थे।

हाँ वही,
आज उसी अँधेरे से
मेरा रास्ता मुड़ रहा हैं।

Advertisements
Standard
Poetry

सपना

घड़ी देख बताया उसने,
बस थोड़ा सा लेट हुआ हूँ,
चाँद को जाने वाली बस,
अभी आयी नहीं लेकिन।

हर रात का हैं ये,
सपने सच होते तो
बस न छूटती कभी।

Standard
Fictions

लेट हो जाऊंगा

टिक टिक टिक… घड़ी जब रात के अँधेरे में बात कर रही थी, रचित का टेक्स्ट आया मोबाइल पर।

“मैं लेट हो जाऊंगा। तुम सो जाओ।”

अभी इंतज़ार से थक कर सोने ही लगी थी के दरवाज़े पर दस्तक हुई। पाऊ अपनी ही आहत से डर रहे थे, और जैसे सारा शहर मुझे ही सुनाई दे रहा हो। दरवाज़े से झाँका तो, रचित खड़ा था। फिर उसने अपने ही फ़ोन से कॉल किया, ये अजीब लगा।

“हेल्लो, आप रचित गुप्ता के घर से बोल रही हैं। अभी कुछ देर पहले रिंग रोड पर बाइक का एक्सीडेंट हुआ हैं, आप आ कर यहाँ रचित की बॉडी की शनास्त कर लीजिए।” दूसरी ओर से इंस्पेक्टर ने कहा।

रचित ने वादा भी निभाया आने का, और मैं पूछ भी न सकी उसके सर पर चोट कैसे लगी।

Standard
Fictions

Baby, it’s cold outside

“I really can’t stay (but baby, it’s cold outside),
I’ve got to go away (but baby, it’s cold outside)…”

To this song, she was taping a foot, while walking to her house. He was waiting on his bike, like any other day. He took a minute, and then blocked her way. He hugged her. She tried escaping him. He groped her, pulled her towards darker side of the road.

“The neighbors might think (baby, it’s bad out there)
Say what’s in this drink? (no cabs to be had out there)…”

Singer of the song warned her, but she didn’t know old Christmas song had a new meaning for rapists.

Listen to above mentioned song here.

Standard
Fictions

किताब और ऐनक

 

 

कभी दादी नानी से कोई कहानी नहीं सुनी थी रचित ने। उसे नहीं पता था रात कैसे गुजर जाती हैं उनकी गोद मे सर रखते ही।

एक रात काम से लौटते हुए गुप्ता जी एक नई गुलज़ार की किताब लेके आए। मेज पर रखी किताब और ऐनक को रचित कोने से घूरता रहा।

उस रात ना वो ऐनक आँखों से उतरी, ना वो पिता के गोद मे सोया रचित।

Standard
Poetry

Always

How drunk this night could be?
Counting stars and I
Always end up counting You.

How old these trees could be?
Shedding leaves and I
Always end up holding You.

How broke this road could be?
Walking straight and I
Always end up hugging You.

Is it too early to start fresh?
Because in dark I
Always end up Loving You.

Standard
Poetry

Untouched Kiss

Night up here,
Isn’t full of stars.
Rather all alone
With moon and darkness

This moon shine
touches the dermis,
Like it has been
Longing for a incursion.

There you’re
Smiling alone about past,
What if we never
Made up our story.

Won’t these nights
Be same with all stars,
Of course, they would be
Because of emptiness.

Fourteen days is
A long time for full moon,
Fourteen nights are
A short time for Us.

This moon has a plan
For the story left alone,
Why don’t we meet,
Again to complete everything.

Complete those pages
Few steps to the corner,
Few breaths away
From the lips.

Let’s complete that,
Forgotten kisses left untouched.
This moon shine
Would touch Us inseparable.

Standard