Poetry

मोड़

वो मोड़ याद होगा तुम्हें,
वही जहाँ रात भर
नींद यूँही बैठी रहती थी
और तुम और मैं
बस अर्सा बाते
करते रहते थे।

हाँ वही,
आज उसी अँधेरे से
मेरा रास्ता मुड़ रहा हैं।

Advertisements
Standard
Poetry

तुम्हारी पसंद नापसंद

याद है तुम्हारी पसंद नापसंद अब भी,
थोड़ा तीखा कम, और मीठा ज़्यादा।

किताबें बहुत सी होंगी आस पास,
बस हिसाब किताब ही नहीं होगा लिखा।
याद हैं तुम्हारी पसंद नापसंद अब तक,
खर्चा बहुत, हिसाब कम।
लसुन थोड़ा ज्यादा, नमक बस संभाल कर।

सावन का इंतज़ार, और
झपाक खिड़की का बंद होने की आवाज़,
याद हैं तुम्हारी पसंद नापसंद सभी,
गीले बालों को सुलझाना, उलझने बढ़ाना,
एलाइची वाली चाय, और देर तक उबाली।

देर शाम का आना, और सुबह जल्दी होना,
इत्तेफाकन नज़रे मिलना, यूँही फ़ेर लेना,
ईथर उथर की बातें होंगी, और
मुलाकातों से बचते जाना।
याद हैं तुम्हारी पसंद नापसंद की अदा,
दूर से नज़रे मिलना, पास से ही गुजर जाना,
थोड़ा तीखा कम, मीठा तेज रखना।

Standard
Poetry

मासूमियत

आज वही मासूमियत से मुलाकात हुई,
अब वो रोज़ रोज़ तो नहीं मिलती,
लेकिन माज़ी को याद
कर लेता हूँ कभी कभी।

अभी कल ही की बात हैं,
मिलते ही बोली,
“कहाँ थे इतने दिन?”
“यहाँ कैसे, अच्छा ये सब छोड़ो,
और अब कहाँ?”

कितने बदल गए ये दिन ये रात,
कितने बदल गए सब, और तुम।
हाँ तुम, मासूमियत तो वही हैं,
उस बस स्टॉप से इस शाम तक।

बे-आबरू हो कर किताबों मे,
अब नहीं मिलती
वो मोटे कागजों की कहानी,
धूल मे ढकी हुई सुस्त आँखें,
इतनी मासूम तो न थी तुम।

वहीं मिलता हूँ तुम्हें मैं,
मासूम लफ्जों मे, बे-सब्र इत्तेफाकों में,
और तुम माज़ी में ही ढूँढते रहे,
“अब कुछ कहो भी,
कहाँ थे तुम इतने दिनों तक?”

Standard
Poetry

ये भी कोई बात हुई

चाय, सिगरेट और बारिश,
ये तो कोई बात न हुई।
तन्हाई भरी रात और तुम्हारी याद,
ये तो कोई मुलाकात न हुई।

वही गली, शहर, और घर की खिड़की,
वही पनवाड़ी, वही सिगरेट और इंतज़ार,
ये सब ठीक तो नहीं,
ये भी कोई बात हुई,
आए नहीं तुम बारिश को झाँकने खिड़की से,
मिली नहीं तुमसे फ़िर मेरी नज़रे,
ऐसे ही वापस लौट जाना होगा अपने शहर,
ये भी कोई मुलाकात हुई।

चाय, सिगरेट और बारिश,
ये तो कोई बात न हुई।

Standard
Fictions

सिगरेट

बहुत देर तक जब उनकी चुप्पी और मेरी खामोशी बातें कर के थक जाते, तो कबीर चले जाने का इशारा कर देते थे। मैंने कभी रोका नहीं उन्हें। अपना सामान उठाते और बस चले जाते कबीर। ऐशट्रे और उसमे रखी उनकी आधी फूँकी हुई सिगरेटे संभाल लेती थी।

जब भी कोई पूछता ये सिगरेट की आदत कहाँ से लगी, मैं उनकी यादों में फूँकी उनकी आधी रखी सिगरेट गिना देती थी।

सिगरेट को जब मैं अपने लबों पर रखती थी, एक उनके साथ होने का एहसास पा लेती थी। उठते धुएं में उनकी ख़ुशबू रहती थी| अब बस आदतें ही बाकि हैं|

Standard
Poetry

I saw You

Remember that day
We met alone,
none other but us.
Closely I didn’t see you before.

That day I catched
Every inch of dermis
You were hiding under your skin
Not that those never
blinked before
But that day I saw
how on every flip
Of time it blinked.

Heard those words
Crisp and clear
I saw how those words
Shaped around your lips
Felt that dermis
Not how they touch it,
But yes, I felt every
scare of your face.

That day remember
We met alone,
none other but us.
Closely I saw you,
Clearly, I felt everything.

Standard
Fictions

पुराना घर

House painted green, Panjim. Goa, India

“ये बेरंग सी दीवारोँ पर नया पेंट करना चाहता था मैं!”

“हाँ!” गीत ने कहा।

“तुम बोली ऐसा ही रहने दो, घर लगता हैं।” रचित ने जवाब दिया।

उम्र बीत गयी, पर यादें वहीँ मिली पुराने घर की चौखट पर।

#छोटीसीकहानी

Standard