Poetry

सपना

घड़ी देख बताया उसने,
बस थोड़ा सा लेट हुआ हूँ,
चाँद को जाने वाली बस,
अभी आयी नहीं लेकिन।

हर रात का हैं ये,
सपने सच होते तो
बस न छूटती कभी।

Advertisements
Standard
Poetry

एकतरफ़ा

इस नींद से
नफरत भी हैं,
उतना ही
इश्क भी|

जो जगा
तो ख्यालों में तुम,
जो सोया
तो ख्वाबों में तुम|

ये एकतरफ़ा
ज़िन्दगी भी हैं,
और एक
कतल सा भी हैं|

तुम हो बस
मेरे ख्यालों के हो,
तुम न हो तो
किसी के भी नहीं|

Standard