Poetry

तुम्हारे निशान

यूँ आज भी तुम यहीं हो,
कुछ बदलती तारीखों में
तुम्हारा ज़िक्र हैं,
कुछ इन दीवारों पे अभी भी,
तुम्हारी तस्वीर के निशान हैं|
उस चादर की सलवटे,
जिसमे अब भी ख़ुशबू बाकि हैं
और नहीं महकता ये, गुल्फ़ाम,
तुम ले जाओ ये सब जब,
लौट के ही नहीं आना तुमने जो अगर|
Advertisements
Standard

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s